मुंगेर- शिक्षा

मुंगेर विश्वविद्यालय

मुंगेर में शिक्षा का काफी पुराना इतिहास रहा है। मुंगेर का ऋषिकुण्ड प्रसिद्ध ऋषि श्रृंग का आश्रम हुआ करता था, जहाँ दूर दूर से ऋषि मुनि आकर तपस्या किया करते थे। आज भी यह स्थान पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है। जिला मुख्यालय से 20 किमी दूर खड़गपुर प्रखंड में स्थित ऋषिकुंड गर्मजल के लिए प्रसिद्ध है। वर्तमान में बिहार योग विश्वविद्यालय योग की शिक्षा प्राप्त करने के लिये विश्व का एक मात्र केंद्र है, जो मुंगेर के फोर्ट एरिया में अवस्थित है। मुंगेर में राजकीय आईटीआई कॉलेज मुंगेर मुख्यालय से 3 KM पूर्व में अवस्थित है। इसकी स्थापना वर्ष 1969 में हुई थी। इसके अलावा लगभग 30 प्राइवेट आईटीआई कॉलेज जिले में संचालित हैं। मुंगेर जिले के जमालपुर में भारत का महत्वपूर्ण रेलवे टेक्निकल स्कूल है। इसकी स्थापना 1988 में हुई थी। यहाँ अपरेंटिस ऑफिसर को ट्रेनिंग दी जाती है। इसका पूरा नाम “The Indian Railways Institute of Mechanical & Electrical Engineering” है। जामिया रहमानी खानकाह इस्लाम धर्म के शिक्षा का केंद्र है. यहाँ देश के कोने कोने से विद्यार्थी इस्लाम का शिक्षा प्राप्त करने आते हैं। इसकी स्थापना 1901 में हुई थी।रहमानी फाउंडेशन द्वारा संचालित संस्थान में कई प्रकार के वोकेशनल कोर्से की पढाई होती है। यहाँ B.Ed की पढाई भी होती है। मुंगेर में पॉलिटेक्निक कॉलेज है जो मुंगेर मुख्यालय से 30 KM की दुरी पर खड़गपुर में है। यहाँ विश्वनाथ सिंह लॉ कॉलेज है जो लाल दरवाजा में अवस्थित है। यहाँ लॉ की पढाई होती है।
मुंगेर में सामान्य शिक्षा प्राप्त करने के लिये मुंगेर यूनिवर्सिटी के अधीन 16 अंगीभूत महाविद्यालय एवं 13 सम्बन्ध डिग्री कॉलेज हैं। इन कॉलेजों में कला(Arts), विज्ञान(Science) एवं वाणिज्य(Commerce) विषयों की पढाई होती है। मुंगेर विश्वविद्यालय की स्थापना 2018 में हुई है। इसके पहले मुंगेर जिले के महाविद्यालय भागलपुर विश्वविद्यालय के अधीन थे।
स्कूली शिक्षा प्राप्त करने के लिये यहाँ कई राष्ट्रीय स्तर के स्कूल है। नोट्रे डेम एकेडमी, DAV, सरस्वती विद्या मंदिर, पाठ भवन, संत मायकल स्कूल, कॉलिंस स्कूल, संत मेरी स्कूल, लाम आर्ट्स स्कूल, S. K. D. Memorial Public School, Paramount Academy तारापुर, अवधूत अकादमी प्रमुख हैं।